मंगल ग्रह की सतह पर दिखा 10 हजार साल बूढ़े एलियन का चेहरा! पत्थरों के बीच यूं उभरी दिखी नाक

मंगल ग्रह की सतह पर दिखा 10 हजार साल बूढ़े एलियन का चेहरा! पत्थरों के बीच यूं उभरी दिखी नाक

एलियंस (Aliens) के होने ना होने पर लंबे समय से बहस होती रहती है. कई ग्रहों पर खोज की जाती रही है कि वहां जीवन है या नहीं. सालों से चल रही खोज के बावजूद अभी तक वैज्ञानिक किसी दावे के कन्क्लूजन में नहीं पहुंच पाए हैं. उन्हें अभी तक कंफर्म नहीं हुआ कि आखिर किस ग्रह (Life On Mars) पर जिंदगी मौजूद है. हालांकि, अभी तक के खोज के आधार पर मंगल ग्रह पर जिंदगी के चांसेस सबसे ज्यादा सामने आए हैं. इस बीच ताइवान के एक वैज्ञानिक को मंगल ग्रह पर एलियन का चेहरा नजर आया है.

स्कॉट ने दावा किया है कि उसे मंगल ग्रह के चट्टान पर एलियन का चेहरा नजर आया है. UFO साइटिंग डेली की खबर ले मुताबिक़, स्कॉट को ग्रह के पहाड़ों पर ये चेहरा दिखाई दिया. उसके मुताबिक़, ये चेहरा बिल्कुल वैसा है जैसा माउंट रशमोर की पहाड़ियों पर अमेरिका के राष्ट्रपतियों के बने चेहरे. मंगल के चट्टान पर बने इस चेहरे से ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस लाल ग्रह पर जिंदगी है. स्कॉट ने बताया कि ये चेहरा पहाड़ के ऊपरी हिस्से में बना है ये लगभग इंसान की तरह ही दिखाई देता है.

स्कॉट के मुताबिक़, पहाड़ पर बना ये चेहरा 10 हजार साल पुराना हो सकता है. पृथ्वी पर अमेरिका के माउंट रशमोर में बने राष्ट्रपतियों के चेहरे की ही तरह ये नक्काशी की गई गई. सरफेस पर दिखाई दे रही आकृति के टेक्स्चर के हिसाब से ये करीब 10 हजार साल पुराना हो सकता है. दिखाई दे रहे इस चेहरे से पता चलता है कि मार्स यानी मंगल ग्रह पर हजारों साल से जिंदगी मौजूद है. यहां रहने वाले प्राणी भी पहाड़ों पर चेहरे की नक्काशी करते थे.

बता दें कि बीते कुछ समय से दुनिया में एलियंस से जुड़ी एक्टिविटीज में बढ़त हुई है. अमेरिका के कई नेवी ऑफिसर्स का दावा है कि उन्होंने अपने कैम्प में कई यूएफओ देखे हैं. साथ ही अमेरिका पर एलियंस से जुड़ी जानकारी छिपाने का आरोप लगा है. इसके अलावा भी कई देशों में समय-समय पर एलियन ार यूएफओ देखने का दावा किया जाता रहा है. हाल ही में केंटकी में रहने वाले एक शख्स ने दावा किया था कि उसे आसमान में एलियन दिखा दिया था, जिसपर उसने हवा में

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *