जानिए : आजादी के बाद भारत की पहली महिला आईएएस अधिकारी कोन थी ?

जानिए : आजादी के बाद भारत की पहली महिला आईएएस अधिकारी कोन थी ?

आजादी के बाद भारत की पहली महिला आईएएस अधिकारी अन्ना रजम मल्होत्रा थी

जन्म
उनका जन्म जुलाई 1927 में केरल के एर्नाकुलम जिले में हुआ था और तब उनका नाम अन्ना रजम जॉर्ज था. उनका विवाह आर. एन. मल्होत्रा से हुआ था जो 1985 से 1990 तक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर रहे थे. उन्हें मुंबई के नजदीक देश के आधुनिक बंदरगाह जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) की स्थापना में योगदान के लिए जाना जाता है. वह जेएनपीटी की अध्यक्ष रहीं. केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्ति के दौरान उन्हें जेएनपीटी का कार्य मिला था.

शिक्षा
अन्ना जॉर्ज ने प्रारम्भिक शिक्षा कोझिकोड में प्राप्त करने के बाद वह चेन्नई चली गईं ताकि मद्रास विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा ग्रहण कर सकें.

योगदान
अन्ना 1951 में भारतीय सिविल सेवा में शामिल हुईं . उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री सी. राजगोपालाचारी के नेतृत्व में मद्रास राज्य में सेवा दी थी. 1951 में संघ लोक सेवा आयोग द्वारा संचालित आर एन बनर्जी और चार आईसीएस अधिकारियों के शामिल साक्षात्कार बोर्ड में उन्हें काफी हतोत्साहित किया गया और उन्हें विदेश सेवा और केन्द्रीय सेवाओं को चुनने के लिए कहा गया, किन्तु उन्होने बिना हतोत्साहित हुये मद्रास काडर चुना और पहले प्रयास में ही उसी वर्ष उनका चयन हुआ।

बताया जाता है कि उन्होंने तमिलनाडु के सात मुख्यमंत्रियों के मातहत काम किया था. दिल्ली में 1982 में एशियाई खेलों का प्रभारी होने के दौरान राजीव गांधी के साथ उन्होंने निकटता से काम किया था. 1982 में उन्होंने पंडित नेहरू को एशियाड सम्मेलन में हाथ बंटाया था, वो इंदिरा गांधी के साथ फूड प्रोडक्शन पैटर्न को समझने के लिए आठ राज्यों की यात्रा पर भी गई थीं.

आजादी के बाद भारत की पहली महिला आईएएस अधिकारी बहुत ही हठीली और ईमानदार महिला थी। उनका नाम था अन्ना रजम मल्होत्रा। 92 साल तक जीवित रहीं मल्होत्रा को देश की पहली आईएएस बनने का गौरव प्राप्त है। वे सचिवालय में पद प्राप्त करने वाली भी पहली महिला थीं। उनका जन्म जुलाई 1927 में केरल के एर्नाकुलम जिले में हुआ था और तब उनका नाम अन्ना रजम जॉर्ज था। कोझिकोड में स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद वे चेन्नई चली गईं ताकि मद्रास विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा ग्रहण कर सकें। मल्होत्रा 1951 में भारतीय सिविल सेवा में शामिल हुईं और मद्रास कैडर चुना। जब यूपीएससी में उनका साक्षात्कार हुआ था, तो साक्षात्कार कर्ताओं ने उन्हें विदेश सेवा या सेंट्रल सेवा में जाने के लिए कहा था, क्योंकि ये सेवाएं महिलाओं के लिए उपयुक्त मानी जाती थीं। लेकिन अन्ना रजम मल्होत्रा ने सिविल सेवा में जाने का ही मन बना लिया था और वे उसी निर्णय पर कायम रहीं। इसीलिए उन्हें प्रेरक, दृढ़, हठीली व ईमानदार महिला कहा जाता है जो कि आजादी के बाद महिलाओं के लिए प्रेरणा बनीं। उन्होंने मद्रास राज्य (बाद में तमिलनाडु) में तत्कालीन मुख्यमंत्री सी. राजगोपालाचारी के नेतृत्व में सेवा दी थी। उनकी शादी आर. एन. मल्होत्रा से हुई थी, जो 1985 से 1990 तक आरबीआई के गवर्नर रहे थे।

अन्ना रजम मल्होत्रा ने मुंबई बंदरगाह के जहाज परिवहन की समस्या का समाधान करने के लिए इसके नजदीक ही देश के पहले आधुनिक कम्प्यूटरीकृत बंदरगाह जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) की स्थापना में योगदान दिया। केंद्र सरकार में डेपुटेशन के तहत उन्हें जेएनपीटी विकास कार्य की निगरानी का दायित्व मिला था। महलौत्रा जेएनपीटी की कुछ समय तक अध्यक्ष रहीं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि आज के आधुनिक बंदरगाहों में जेएनपीटी की आधुनिक सुविधाओं पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगा सकता।

उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री सी. राजगोपालाचारी सहित सात मुख्यमंत्रियों के मातहत काम किया था। उनका वह अनुभव किसी भी नौकरशाह के लिए अतुल्य है। श्रीमती मल्होत्रा को सिविल सेवा की ट्रेनिंग के दौरान घुड़सवारी और निशानेबाजी का प्रशिक्षण मिला था, जब उनकी पहली नियुक्ति सब कलेक्टर के तौर पर होसुर में की गई तो उनके सामने एक ऐसी समस्या आई जिसमें छह हाथियों को मारने का ऑर्डर दिया जाना था, परंतु श्रीमती मल्होत्रा ने गांव में घुस आए उन हाथियों को मारने का आदेश देने की बजाय एक ऑपरेशन के जरिए जंगल में वापस पहुंचा दिया। यह उनका जीवों के प्रति उदार भाव का द्योतक है। इसके अलावा 1982 में दिल्ली में जब एशियाई खेलों का आयोजन हुआ तो प्रभारी होने के तौर पर तत्कालीन सांसद राजीव गांधी के साथ उन्होंने निकटता से काम किया था। वे इंदिरा गांधी के साथ फूड प्रोडक्शन पैटर्न को समझने के लिए आठ देशों की यात्रा पर भी गई थीं। साल 1989 में उन्हें पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

पुरस्कार
भारत सरकार द्वारा 1989 में उन्हें पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

मृत्यु
17 सितम्बर 2018 को अन्ना जॉर्ज का निधन हो गया।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *